LatestNewsrailway

क्या आप जानते हैं कि निले रंग एवं लाल रंग के कोच में क्या अंतर है।

Share it on

क्या आप जानते हैं कि निले रंग एवं लाल रंग के कोच में क्या अंतर है।

रेलगाड़ी आम जन जिवन में बहुत महत्व रखता है, लेकिन रेलगाड़ी से जुड़ी हर जानकारी सबको पता नहीं होता, आपने लाल रंग और निले रंग का रेलगाड़ी के कोच देखा होगा इनमें सफर भी किया होगा।

आइए जानते हैं कि इनमें क्या फर्क है निले रंग के रंग वाले को ICF(Integral Coach Factory) और लाल रंग वाले कोच को LHB (Linke Hofmann Busch) कहते हैं।

ICF – यह कोच चेन्नई, तामिलनाडु में निर्मित होता है। इसकी स्थापना 1952 में की गई थी, यह लोहे से बना हुआ होता है इसलिए काफी भारी होता है।

इसमें एयर ब्रेक का प्रयोग किया जाता है और दुर्घटना के बाद डिब्बे एक दूसरे के उपर चढ़ जाते हैं, इसमें बैठने की क्षमता कम होती है। इस कोच की 120 किमी अधिकत्म गति होती है एवं इसके रखरखाव में ज्यादा खर्च होता है।

LHB – कोच को बनाने की फैक्ट्री कपूरथला, पंजाब में स्थित है और ये कोच जर्मनी से भारत लाया गया था। ये भारत में 2000 में लाया गया था। यह अलुमुनियम से बनी होती है। इसी वजह से हल्की होती है। इसकी अधिकतम परिचालन गति 200 किमी प्रति घंटा एवं परिचालन गति 160 किमी प्रति घंटा होता है।

यह कोच काफी हल्का होता है, और इसके रखरखाव में कम खर्च होता है, इस में बैठने की क्षमता ज्यादा होती है एवं दुर्घटना के बाद इसके डिब्बे एक दूसरे के उपर नही चढ़ते।

आपको बता दें कि पहले LHB कोच का प्रयोग तेज रफ्तार वाली ट्रेन के लिए होता था, लेकिन अब सरकार ने सभी ICF कोच को LHB कोच में बदलने के लिए आदेश दिया है। क्योंकि यह कोच आरामदायक एवं तेज़, सुरक्षा, क्षमता के मामले में ICF से बेहतर है।


Share it on
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button