Technology

ISRO के चेयरमैन के. सिवान के बारे में आप कितना जानते हैं?

Share it on

इसरो के चेयरमैन का पूरा नाम कैलासवादिवू शिवन है।  कन्याकुमारी जिले के मेला सरक्कलविलाई गाँव मे जन्मे के. शिवन का जीवन अत्यंत ही सादा रहा है।

इनके पिता एक किसान थे और रोचक बात तो यह है कि यह अपने परिवार में पहले ग्रैजुएट थे।

 

के. सिवान के चाचा बताते हैं कि “रॉकेट मैन” कहे जाने वाले के.शिवन ने अपनी पढ़ाई सरकारी स्कूल से ही पूरी की और बचपन से ही पढ़ाकू और मेहनती थे। वह बताते हैं कि के.शिवन को कभी ट्यूशन या कोचिंग की जरूरत नही पड़ी।

स्कूल के बाद, के. शिवन ने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से  एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (BE)की पढ़ाई की। के.शिवन ने एयरोस्पेस साइंस से मास्टर ऑफ साइंस (ME) की पढ़ाई, IISc से सन 1982 में पूरी की।

 

1982 में जॉइन किया ISRO.

के.शिवन ने वर्ष 1982 में इसरो जॉइन किया। पोलर सैटेलाइट लांच व्हीकल यानी PSLV प्रोजेक्ट में के.शिवन का बहुत योगदान रहा है, खास तौर लार डिजाइनिंग , इंटीग्रेशन और अनालीसिया में।

वर्ष 2006 में, इंडिया के “राकेट मैन” कहे जाने वाले के.शिवन ने ऐरोस्पेस साइंस में  IIT BOMBAY से अपनी Ph.D की डिग्री हासिल की।

 

के. शिवन को मिले पुरस्कार।

 

के. शिवन को डॉक्टर ऑफ साइंस, अवार्ड सत्यभामा यूनिवर्सिटी के तरफ से अप्रैल 2014 में मिला।

साथ ही उनको श्रीहरि ओम आश्रम प्रेरित डॉ.विक्रम साराभाई रिसर्च अवार्ड 1 सन 1999 में मिला था।  “राकेट मैन” का चन्द्रयान 2 की सफलता में के. शिवन जी का बहुत ही अहम योगदान रहा है।


Share it on
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button